Krishna Chalisa Pdf – श्री कृष्ण चालीसा

श्री कृष्ण चालीसा ( Krishna Chalisa Pdf In Hindi ) We have given the PDF file of Krishna Chalisa below. If you want, you can download it. Along with this, we have also given the lyrics of Krishna Chalisa below. You can read them easily.

श्री कृष्ण चालीसा Pdf ( Krishna Chalisa Pdf In Hindi )

श्री कृष्ण चालीसा हिंदू धर्म की एक महत्वपूर्ण चालीसा पाठ है जो भगवान कृष्ण की महिमा को भक्तों के सामने प्रस्तुत करती है। कृष्ण चालीसा मेंभगवान कृष्ण के गुण, कर्म और धर्म के बारे में बताया गया है। श्री कृष्ण चालीसा के माध्यम से भक्तों को श्री कृष्ण का मार्गदर्शन प्राप्त होता है।

कृष्ण चालीसा में 40 छंदों का प्रयोग किया गया है। कृष्ण भक्त श्री कृष्ण जन्माष्टमी तथा कुछ विशेष अवसरों पर कृष्ण चालीसा का पाठ करते हैं प्रतिदिन श्री कृष्ण चालीसा का पाठ करने से मानसिक शांति मिलती है।

श्री कृष्ण चालीसा का पाठ करने से मनुष्य के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आता है और वह अध्यात्मिक भक्ति की ओर अग्रसर होता है।

Krishna Chalisa Pdf
PDF NameKrishna Chalisa Pdf
No. of Pages3
PDF Size739 KB
LanguageHindi
Provideraartichalisapdf.com
CategoryReligion & Spirituality

श्री कृष्ण चालीसा – Krishna Chalisa Pdf Download

।। दोहा ।।

!! बंशी शोभित कर मधुर , नील जल्द तनु श्यामल,
अरुण अधर जनु बिम्बा फल, नयन कमल अभिराम,
पुरनिंदु अरविन्द मुख, पिताम्बर शुभा साज्ल,
जय मनमोहन मदन छवि, कृष्णचंद्र महाराज !!

!! जय यदुनंदन जय जगवंदन,l जय वासुदेव देवकी नंदन,
जय यशोदा सुत नन्द दुलारे,l जय प्रभु भक्तन के रखवारे,
जय नटनागर नाग नथैया,l कृष्ण कन्हैया धेनु चरैया,
पुनि नख पर प्रभु गिरिवर धारो,l आओ दीनन कष्ट निवारो !!

!! बंसी मधुर अधर धरी तेरी,l होवे पूरण मनोरथ मेरी,
आओ हरी पुनि माखन चाखो,l आज लाज भक्तन की राखो,
गोल कपोल चिबुक अरुनारे,l मृदुल मुस्कान मोहिनी डारे,
रंजित राजिव नयन विशाला,l मोर मुकुट वैजयंती माला !!

!! कुंडल श्रवण पीतपट आछे l कटी किंकिनी काछन काछे,
नील जलज सुंदर तनु सोहे,l छवि लखी सुर नर मुनि मन मोहे,
मस्तक तिलक अलक घुंघराले,l आओ श्याम बांसुरी वाले,
करि पी पान, पुतनाहीं तारयो,l अका बका कागा सुर मारयो !!

!! मधुवन जलत अग्नि जब ज्वाला,l भये शीतल, लखिताहीं नंदलाला,
सुरपति जब ब्रिज चढ़यो रिसाई,l मूसर धार बारि बरसाई,
लगत-लगत ब्रिज चाहं बहायो,l गोवर्धन नखधारी बचायो,
लखी यशोदा मन भ्रम अधिकाई,l मुख महँ चौदह भुवन दिखाई !!

!! दुष्ट कंस अति ऊधम मचायो,l कोटि कमल कहाँ फूल मंगायो,
नाथी कालियहिं तब तुम लीन्हें,l चरनचिंह दै निर्भय किन्हें,
करी गोपिन संग रास विलासा,l सब की पूरण करी अभिलाषा,
केतिक महा असुर संहारयो,l कंसहि केश पकडी दी मारयो !!

!! मातु पिता की बंदी छुडाई,l उग्रसेन कहाँ राज दिलाई,
माहि से मृतक छहों सुत लायो,l मातु देवकी शोक मिटायो,
भोमासुर मुर दैत्य संहारी,l लाये शत्दश सहस कुमारी,
दी भिन्हीं त्रिन्चीर संहारा,l जरासिंधु राक्षस कहां मारा !!

!! असुर वृकासुर आदिक मारयो,l भक्तन के तब कष्ट निवारियो,
दीन सुदामा के दुःख तारयो,l तंदुल तीन मुठी मुख डारयो,
प्रेम के साग विदुर घर मांगे,l दुर्योधन के मेवा त्यागे,
लाखी प्रेमकी महिमा भारी,l नौमी श्याम दीनन हितकारी !!

 !! मारथ के पार्थ रथ हांके,l लिए चक्र कर नहीं बल थाके,
निज गीता के ज्ञान सुनाये,l भक्तन ह्रदय सुधा बरसाए,
मीरा थी ऐसी मतवाली,l विष पी गई बजाकर ताली,
राणा भेजा सांप पिटारी,l शालिग्राम बने बनवारी !!

 !! निज माया तुम विधिहीन दिखायो,l उरते संशय सकल मिटायो,
तव शत निंदा करी ततकाला,l जीवन मुक्त भयो शिशुपाला,
जबहीं द्रौपदी तेर लगाई,l दीनानाथ लाज अब जाई,
अस अनाथ के नाथ कन्हैया,l डूबत भंवर बचावत नैया !!

!! सुन्दरदास आस उर धारी,l दयादृष्टि कीजे बनवारी,
नाथ सकल मम कुमति निवारो,l छमोबेग अपराध हमारो,
खोलो पट अब दर्शन दीजे,l बोलो कृष्ण कन्हैया की जय !!

।। दोहा ।।

!! यह चालीसा कृष्ण का, पथ करै उर धारी,
अष्ट सिद्धि नव निद्धि फल, लहे पदार्थ चारी !!


नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके आप Krishna Chalisa Pdf File को डाउनलोड कर सकते हैं


कृष्ण चालीसा पाठ के फायदे

कृष्ण चालीसा का पाठ करने से अनेक प्रकार के लाभ होते है।

  • मानसिक शांति: कृष्ण चालीसा का पाठ करने से मन में शांति और सुकून मिलता है। इससे मन की सारी चिंताएं दूर हो जाती है और मन प्रसन्न रहता है।
  • आध्यात्मिक विकास: श्री कृष्ण चालीसा का नियमित रूप से पाठ करने से व्यक्ति का आध्यात्मिक विकास होता है तथा उसके मन में भक्ति की भावना बढ़ती है और उसे श्री कृष्ण के अनुसार जीवन जीने की प्रेरणा मिलती है।
  • कष्टों से मुक्ति: कृष्ण चालीसा का पाठ करने से मनुष्य के जीवन में आने वाली सारी कठिनाइयों और कष्टों से मुक्ति मिल जाती है।
  • भक्ति में वृद्धि: कृष्ण चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति के मन में भक्ति का भाव जागृत होता है। जिससे वह देवी-देवताओं के प्रति समर्पित हो जाता है और उसके मन में भक्ति की वृद्धि होती है।

श्री कृष्ण चालीसा का नियमित रूप से पाठ करने से हमारे जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आता है तथा हमारी आत्मा को शुद्धी मिलती है।

Also Read

2 thoughts on “Krishna Chalisa Pdf – श्री कृष्ण चालीसा”

Leave a Comment